26 June, 2020

तीन परीक्षाओं के आधार पर रिजल्ट के फैसले से कई स्टूडेंट्स नाखुश, सोशल मीडिया पर जता रहे विरोध

सीबीएसई बोर्ड की 10वीं-12वीं की बची हुई परीक्षाओं को लेकर शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। इस दौरान सीबीएसई और आईसीएसई ने कोर्ट से कहा कि 10वीं और 12वीं के नतीजों को 15 जुलाई तक जारी किया जा सकता है। सीबीएसई और केंद्र सरकार की तरफ से कोर्ट में पेश हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि एसेसमेंट स्कीम में स्टूडेंट्स की पिछली तीन परीक्षाओं के मार्क्स को आधार बनाया जाएगा।

जस्टिस एएम खानविलकर की अगुआई वाली 3 जजों की बेंच ने ने केंद्र और सीबीएसई से कहा कि परीक्षाएं कैंसिल करने के लिए नोटिफिकेशन जारी करें। साथ ही कहा कि एसेसमेंट के आधार पर स्टूडेंट्स को मार्क्स देने की दिशा में आगे बढ़ें।

कोर्ट की तरफ से आए फैसले के बाद से ही सोशल मीडिया पर लगातार स्टूडेंट्स, पैरेट्स और टीचर्स के रिएक्शन देखने को मिल रहे हैं। कई इस फैसले से खुश नजर आ रहे हैं,तो कई इसे गलत मानकर मेहनत बर्बाद होना बता रहे है। कई स्टूडेंट्स ने तो इसे अन्याय तक करार दिया है।

##

##

##

##

##

##

##

##

##



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
CBSE assesment scheme| students reactions on the new assesment scheme for result declaration, many students seems unhappy over the decision of the result, protesting on social media


Note: This Post Credit goes to Danik Bhaskar
Subscribe to Result and Vacancy Alert by Email